एक बार एक ताऊ और ताई की लड़ाई हो री थी….

एक बार एक ताऊ और ताई की लड़ाई हो री थी….

होया न्यू अक ताऊ बोलया सुने स… एक बे या चून का बोरा आड़े त ठा क उड़े धर दे…
इब ताई की हिम्मत कित थी इतना बड़ा बोरा ठा के धरण की… त ताई नाट गी…
इब ताऊ के उठ गया छो ॥
ताऊ बोलया मेरी सासु की तेरे तीन जापे होए , तीनु जापया म मन्ने 25-25 किलो घी खवाया , इब उस 75 किलो घी का के फाइदा होया जब तेर प यो बोरा ए ना उठता … ।
ताई जोश मे आ के बोली अक जाये रोये… तन्ने 75 खवाया मै तन्ने 150 किल्लो खवा द्यू …. ज तू एक मकोड़ा भी जाम के दिखा दे तो….